Login Sign Up Welcome
Guest




मुकद्दर
July 12, 2017 | Om Fulara






Link for Book



मेहनत तो की थी हमने भी बहुत
पर मुकद्दर हमारा किनारा कर गया ,
सोचा हमने भी चलें जमाने के साथ
पर बेरहम वक्त ने बेसहारा कर दिया ,
पकड़ा था जो दामन चलने के लिये
बेदर्द जमाने ने उसे ही दागदार कर दिया,
उड़ते पंछी के परों को कतर कर उसे
रहमो करम पर जीने को मजबूर कर दिया ,
मत घबरा ऐ प्रफुल्ल! इस जमाने के दंश से
उसने कितनों की महिमा को तार तार कर दिया |

KissaKriti | मुकद्दर
Likes (0) Comments (0)