Login Sign Up Welcome
Guest




छोटा सा गांव मेरा
May 27, 2017 | Subhash Bhatt






Link for Book



छोटा सा गांव मेरा ,
पूरा बिग बाजार था...
एक औजी... एक नाई...
एक लोहार था...
छोटे-छोटे घर थे,
हर आदमी बड़ा दिलदार था...
कहीं भी रोटी खा लेते,
हर घर में भोजन तैयार था...
आलू/मूली का थिंच्वाणी मजे से खाते थे,
जिसके आगे शाही पनीर बेकार था...
दो मिनट की मैग्गी न पिज्जा, झटपट,
ढबाड़ी रोटी, भुजी, छन्छेडा तैयार था...
खटाई लैय्या लोण, चूड़ा/बुखणा
भुज्यां भट्ट/ओमी सदा बहार था...
छोटा सा गांव मेरा,
पूरा बिग बाजार था...
परात , बंठा बजा कर पांडव नचा देते,
बच्चा बच्चा स्वरकण्ठी गीतकार था...
मुल्तानी मिटटी से गाड/गधेरे में नहा लेते,
साबुन और स्वीमिंग पूल बेकार था...
और फिर कबड्डी खेल लेते,
कहाँ क्रिकेट का खुमार था...
दादी/नानी की कहानी सुन लेते,
कहाँ टेलीविजन और अख़बार था...
भाई... भाई को देखकर खुश था,
सभी लोगों में बहुत प्यार था....
छोटा सा गांव मेरा,
पूरा बिग बाजार था...

KissaKriti | छोटा सा गांव मेरा
Likes (1) Comments (0)