Login Sign Up Welcome
Guest




चुनावक दौर
March 18, 2017 | Om Fulara






Link for Book



चुनावक दौर में कतुक रिश्त बन जानी
क्वे ददा तो क्वे भुला कै जानी
बिन बुलायी मेहमान जै कतुक ऐ जानी
आमा बुबू कका काकी कने
कतुक रिश्त जुड़ जानी
बात सबुक एक हैंछ
य बार हमर ध्यान धरिया
सबू कैं देख है कैल के निकर
जीती बाद सब द्यो जै खरै जानी
य बखत वोट रूपी आशीर्वाद लिजी
जो लैन लागी रै
ऊ थै देख पुराणोक
ब्रह्मा जीक ऊँ भक्त याद ऐ जानी
जो घोर तप करबेर आशीर्वाद पानी
फ़िर वी आशीर्वादल सबै द्याप्तों कैं डरानी
य चुनावक दौर देखी सतयुगक
तप और त्याग याद ऐ जाँछ
पर ईश्वरक वो रूप नि देख्यन
अत्याचार कैं मिटानी
सब जागी आशीर्वाद लेइ भक्त देख्यनी
जो आपुण मद में चूर सब कुछ भुलि जानी

KissaKriti | चुनावक दौर
Likes (0) Comments (0)