Login Sign Up Welcome
Guest




सुआ बसन्ता
January 23, 2018 | Om Fulara






Link for Book



सुआ बसन्ता देखी तेरो रूपा हिय में उल्लास
हरियाली साड़ी मजी रंगीलो पिछौड़ा
कतु भली छाजि रैछे आज ।
रंग रूप देखी तेरो हरै भूख प्यासा
मन कौंछ भैटी रौं मैं त्यर दिगै आज
सुआ बसन्ता...........
फूल बुराँश प्योली फूली गेछ तेरो लिजिया
कोयल की मीठी वाणी में जी हैगो तेरो सुवासा
सुआ बसन्ता..............
डाई बोट हई रई तेरो अगुवाई सजि धजि बेर
सुवासित करि गेछ हर घरों कणी पूरब की पौना
तेरो मेरो मिलन को साक्षी बणी गो सुन्दर फाग
सुआ बसन्ता...........

KissaKriti | सुआ बसन्ता
Likes (0) Comments (0)