Login Sign Up Welcome
Guest




प्रयास करके तो देखो
October 11, 2017 | Om Fulara






Link for Book



कब तक यह पावन धरा रक्षा की गुहार लगायेगी
कब तक यूँही मानव को उसका गुनाह बतायेगी
क्यों सचेत नहीं होता मानव देख भयंकर महामारी
क्यों सनी है कूड़े के ढेरों से आज यह धरा सारी
क्या विकास की आँधी ने मानव को अन्धा कर दिया
जो उसने इस पावन धरा को इतना गन्दा कर दिया
कब तक यह धरा सिसकियाँ भरती रहेगी
मानव के कर्मों का दण्ड कब तक सहती रहेगी
अपनी बुद्धि के बल पर मानव स्वर्ग में आशियाने की सोच रहा
जो स्वर्ग मिला हुआ है उसको हर पल नोच रहा
स्वर्ग की चाहत से अच्छा यही स्वर्ग बनाने का प्रयास करो
अपनी भूलों से लेकर सीख अपने कर्मों में सुधार करो
यह धरती स्वर्ग से सुन्दर होगी एक कदम बढा के तो देखो
अपने मन के भावों में स्वच्छता लाकर तो देखो
जरूरत नहीं कहीं जाने की विचार स्वच्छ करके तो देखो
खुद मिट जाएगा कूड़ा करकट एक बार प्रयास करके तो देखो
एक बार प्रयास करके तो देखो ..............




KissaKriti | प्रयास करके तो देखो
Likes (0) Comments (0)