Login Sign Up Welcome
Guest




शहर
April 22, 2017 | Yojna Jain






Link for Book



इतना धुआं इतना गुबार इन शहरों की किस्मत में है
इतना लालच, इतनी हवस शहर वालों की फितरत में है
बहुत मुश्किल है कि अब इसकी सीरत बदल जाए
गाँव तो शहर बन सकता है बेशक
पर बमुश्किल शहर कभी गाँव बन पाए

KissaKriti | शहर
Likes (0) Comments (0)